शबरी जल प्रपात (शबरी झरना) चित्रकूट के निकट बुंदेलखंड में बहुत ही खूबसूरत जगह - 1 बार जरूर जाएं - Bundelkhand Explorer

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना) चित्रकूट के निकट बुंदेलखंड में बहुत ही खूबसूरत जगह – 1 बार जरूर जाएं

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना)  जोकि श्रीराम की तपोभूमि चित्रकूट, उत्तर प्रदेश,  बुंदेलखंड में सबसे सुंदर स्थानों में से एक माना जाता है ।  शबरी जलप्रपात की खूबसूरती आपके दिमाग में हमेशा के लिए घर बना देगी। प्रसिद्ध मारकुंडी गांव से यह जगह 8 किलोमीटर दूर है,   आप दोस्तों और परिवार के साथ जाकर इस जगह का आनंद उठा सकते हैं इसका अनुभव आपको जिंदगी भर नहीं भूलेगा। 

चित्रकूट चित्रकूट  धाम  कर्वी  के निकट पानी का झरना

Also read- भारत का नायग्रा फॉल्स बृहस्पति कुंड झरना पन्ना

चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

शबरी जलप्रपात (शबरी झरना)
शबरी जलप्रपात

 यहां  घने जंगलों से निकलता हुआ पानी चट्टानों में बहते हुए आगे जाकर एक झरने का रूप ले लेता है जहां 3 पानी की समांतर धाराएं 40 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरती हैं जो कि आगे जाकर एक 60 फीट चौड़े तलाब (जल निकाय) में  तब्दील हो जाता है। तालाब का पानी फिर से आगे जा कर 2 समांतर धाराओं में होते हुए फिर 100 फीट गहराई पर एक जल निकाय में गिरता है और फिर जंगलों में छुप जाता है, इस दृश्य  की अवर्णनीय सुंदरता आपको सम्मोहित कर  देगी

Read in English ↦
shabri-jal-prapat
शबरी जल प्रपात

शबरी जलप्रपात मानिकपुर के जंगलों (रानीपुर वन्यजीव अभयारण्य ) के बीच में है. प्रसिद्ध मारकुंडी गांव (10 किमी) के पास)। इसका पानी का स्रोत त्रिवेणी नाला है जो सरभंग आश्रम से जुड़ा हुआ है। सबरी जलप्रपात और बृहस्पति कुंड कोविड-19 के लॉकडाउन के दौरान लोकप्रिय हुए

You can also read 15 most beautiful places to visit in Khajuraho

 चित्रकूट  धाम  कर्वी के निकट सुंदर जलप्रपात

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना) चित्रकूट जिले (उत्तर प्रदेश )के अंतर्गत आता है,  यह झरना डुडैला गाँव (निकट बम्बिया और टिकरिया ग्राम पंचायत) में स्थित है।

यह मारकुंडी से 10 किमी, मझगवा (एमपी) से 13 किमी, मानिकपुर से 32 किमी और चित्रकूट धाम से 47 किमी दूर है।  बांदा से इसकी दूरी 108 किलोमीटर है।

चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

Also read: चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

चित्रकूट चित्रकूट  धाम  कर्वी  के निकट पानी का झरना

शबरी जलप्रपात जाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है ?

सबरी जलप्रपात को घूमने का सबसे अच्छा मौसम बारिश का होता है। मानसून के मौसम में पानी का बहाव अधिक होता है जो कि देखने में बहुत ही अच्छा लगता है ।  जुलाई से सितंबर सबसे अच्छे महीने है यहां जाने के लिए हालांकि दिसंबर तक भी लोग यहां जाते हैं । सर्दियों  के दौरान पानी बहुत कम हो जाता है जिसकी वजह से यह जल प्रपात उतना भव्य नहीं लगता है

शबरी जल प्रपात तक कैसे पहुंचें ? जाने का रास्ता और दूरी।

बांदा से शबरी जलप्रपात की दूरी अतर्रा, चित्रकूट और पिंडरा (सतना की ओर) से 108 किमी है।। झरने की अपनी यात्रा पर, हम बांदा से शुरू होकर चित्रकूट पहुँचे और हम चित्रकूट-सतना मार्ग को ३६ किलोमीटर तक  गए और पिंडरा पहुँच गए और हमने अगली बायीं ओर ले लिया और 10 किमी आगे चले गए, हमने झरने के लिए एक बोर्ड देखा और 2 और किमी गए जहां हमें यह खूबसूरत जगह मिली, जहां से हमें पूरा जलप्रपात  मैं पानी के गिरने की बड़ी आवाज आ रही थी   हम समझ गए थे कि हम सबरी जलप्रपात पहुंच चुके हैं और हमें इसे देखकर बहुत उत्साह महसूस हुआ

 चित्रकूट  धाम  कर्वी के निकट सुंदर जलप्रपात

Read in English ↦

गूगल मानचित्रमें  शबरी झरना (शबरी जलप्रपात) के लिए दिशा का पता लगाएं

शबरी जलप्रपात (शबरी झरना) से निकटतम रेलवे स्टेशन

 मानिकपुर और  चित्रकूट( कर्वी)  शबरी जल प्रपात के निकटतम रेलवे स्टेशन है,  मानिकपुर से शबरी  जलप्रपात की दूरी 32 किलोमीटर है जहां कार से 45 मिनट लगते हैं,  आप कोई बुक कर सकते हैं या स्वयं की कार से जा सकते हैं।

कर्वी यह जगह 57 किलोमीटर दूर है, यहां जाने के लिए चित्रकूट से पिंडरा होकर जाना पड़ता है। कर्वी  की दूरी पिंडरा से 40 किलोमीटर है

  ब्रहस्पति कुंड  शबरी जल प्रपात 53 किलोमीटर की दूरी पर है आप एक ही दिन में दोनों जगह जा सकते हैं और प्रकृति की सुंदरता का  आनंद उठा सकते हैं । आप नीचे दिए नक्शे  जाने का रास्ता देख सकते हैं।

 शबरी जलप्रपात दूरी सतना से 55 किलोमीटर है जहां कोठी और मझगवा के रास्ते 1 घंटे 10 मिनट में पहुंचा जा सकता है

 चित्रकूट  धाम  कर्वी के निकट सुंदर जलप्रपात

शबरी जल प्रपात में  किन चीजों का मजा ले सकते हैं

  • यहां  पानी के तालाब में स्नान करें या झरने के नीचे स्नान करें, दोनों एक मजेदार अनुभव होगा। आप बस सतर्क रहें क्योंकि हरे पानी के फंगस के कारण चट्टानें बहुत फिसलन भरी होती हैं इसलिए पानी के अंदर धीरे-धीरे चलें और सावधानी के साथ, किनारों के पास न जाएं
  • घर से बाहर खाना बनाना और खाना  खाना इस जगह पर एक चलन है क्योंकि इसके लिए बहुत जगह उपलब्ध है , आप अपने साथ खाना पकाने के बर्तन ला सकते हैं और प्रकृति के गोद में खाना पकाने और खाने  का आनंद उठा सकते हैं,  यह जगह इस चीज के लिए बहुत शानदार है. आप घर से बना खाना भी लाकर यहां पर खा सकते हैं इसका भी अलग मजा है
  • अगर आपको फोटोग्राफी पसंद है और आपके पासDSLR कैमरा है (कैमरा फोन भी काम कर सकता है), तो यह जगह आपके लिए एक  बहुत सही होगी, यह एक बेहतरीन लैंडस्केप है, शानदार तस्वीरें क्लिक करें और सोशल मीडिया में अपना हुनर ​​दिखाएं
picnic-at-shabri-Jaj-prapat

शबरी जल प्रपात  (शबरी झरना) का इतिहास 

यह कहा जाता है (पौराणिक कथाओं के अनुसार) कि भगवान राम ने शबरी मैया से फल खाने के बाद इस स्थान पर स्नान किया था और इस स्थान का नाम शबरी मैया (रामायण संदर्भ)) के नाम पर पड़ा 

डीएम डॉ। जगन्नाथ सिंह (उस समय जिलाधिकारी। शोध करने के बाद 31 जुलाई 1998 को इस जगह का नाम रखा था। यह इलाका डकैतों के लिए छिपने का स्थान हुआ करता था और इस जगह को लोगों से दूर रखा था, स्थानीय प्रशासन की बदौलत जो इस क्षेत्र में बेहतरी और सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जिसने अधिक से अधिक लोगों को इस जगह पर जाने के लिए प्रोत्साहित किया है जो

Read in English ↦

चित्रकूट चित्रकूट  धाम  कर्वी  के निकट पानी का झरना

शबरी जलप्रात पर सेल्फी पॉइंट

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना) पूर्ण परिदृश्य को देखते हुए शानदार सेल्फी स्पॉट से भरा हुआ है। यदि आप अपने इंस्टाग्राम और फेसबुक के लिए उन रचनात्मक सेल्फी लेना पसंद करते हैं तो आपको वह पसंद आएगा।

Also read: चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना) की यात्रा का अनुभव

जब हमने इस यात्रा की योजना बनाई, तो हमें उस स्थान के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी और न ही  गूगल में यह गूगल मैप में इस स्थान के बारे में बहुत जानकारी  नहीं थी, मेरे एक मित्र ने मुझे इस अविश्वसनीय स्थान और इसके रास्ते के बारे में बताया था है। हम सुबह बांदा से शुरू हुए (सुबह 9 बजे), स्थानीय लोगों से पूछने के बाद शबरी जलप्रपात पहुंचे, जिन्होंने हमें इस स्थान रास्ता बताया था

Also read- बृहस्पति कुंड झरना पन्ना

एक बार जब हम उस जगह पर पहुँचे, तो हमने बहुत सी कारें वहाँ खड़ी देखीं, ताकि हमें यकीन हो गया कि हम सही जगह पर पहुँच गए हैं, हमने दूर से इसकी खूबसूरती को देखा, हमारे दिल की धड़कनें तेज़ हो गईं, हम इसकी ओर बढ़े, और झरने का पानी चट्टानों में गिरने से होने वाली  दहाड़(  तेज आवाज)  सुनाई दी  जिसे सुनकर मैं खुद को रोक नहीं पाया और अपना फोन निकाल कर  फोटो और वीडियो निकालना शुरू कर दिया,  बहुत सारे परिवार वहां खाना बना रहे थे, कुछ वहां भोजन कर रहे थे। हमने कुछ देर फोटो निकाली,  और ज्यादा देर हमसे रहा नहीं गया तो हम सब पानी में कूद गए और आनंद उठाने लगे

picnic-at-shabri-Jaj-prapat

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना)  में पानी के झरने के नीचे बैठकर और तालाब में स्नान करने का अनुभव

यहां पर जाकर झरने के नीचे बैठकर स्नान नहीं किया तो मतलब आपने कुछ भी नहीं किया,  झरने के नीचे बैठकर नहाने का जो मजा है वह यहीं पर है,  पहाड़ों से गिरता हुआ पानी जब शरीर पर पड़ता है आप इस अनुभव को कभी भूल नहीं सकते.  इसके अलावा आप 60 फीट चौड़ा तालाब  ने भी स्नान का अनुभव ले सकते हैं.

You can also read 15 most beautiful places to visit in Khajuraho

मैं आपके साथ  अपने मित्रों की कुछ तस्वीरें शेयर करते हैं ताकि आप देख सके किस जगह पर आपको कितना मजा आने वाला है, अगर आप कभी  इस जगह पर गए तो।  मुझे यकीन है कि इन तस्वीरों को देखकर आप खुद को रोक नहीं पाएंगे और जल्दी से जल्दी  दोस्तों और परिवार वालों के साथ इस जगह पर जाने का प्लान बनाएंगे

चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

शबरी जल प्रपात (शबरी झरना)  के निकट खाने का ढाबा

 इस के निकट एक ढाबा है जो कि ऋषिकेश ढाबा है,  वह इस स्थान से 2 किलोमीटर की दूरी पर है ।  इस झरने का लुफ्त उठा कर घर लौटते समय हम सभी दोस्तों ने इसी स्थान पर खाना खाया था हमको यहां पर दाल काफी पसंद आई,   हम आप सब की सुविधा के लिए इस जगह को गूगल मैप में  रजिस्टर कर दिया है,  आप ऋषिकेश  ढाबा ढूंढ सकते हैं.  हम  इस जगह की कुछ तस्वीरें आपके साथ साझा कर रहे हैं।

निष्कर्ष

 अगर इस जगह का सही तरह से विकास किया जाए और यहां का विज्ञापन किया जाए तो  यह बड़ा पर्यटक स्थल बनाया  जा सकता है और पूरे भारत और विदेश से भी पर्यटकों को यहां लाया जा सकता है। इससे मिल सकता है उन स्थानीय लोगों को रोज़गार जो जीविका कमाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। हमें लोकप्रिय पर्यटन स्थलों को बनाने के लिए स्थानीय सरकार और नेताओं से कुछ ध्यान देने की आवश्यकता होगी ताकि पहले से ही खूबसूरत जगहों को विकसित करने में मदद मिल सके।

चित्रकूट में घूमने के लिए 15 सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक एवं दार्शनिक स्थल

शबरी झरने को एक पर्यटक आकर्षण के रूप में विकसित करने के लिए  कुछ सुझाव

  • एक अच्छी सड़क बनाने से कनेक्टिविटी में सुधार किया जा सकता है जो इस जगह को राजमार्ग से जोड़ता है, इस तरह से यह आसानी से सुलभ होगा। इसके अलावा, कुछ बोर्ड झरने की दिशा और दूरी दिखाते हुए लगाए जा सकते हैं।
  • पूल में पानी साफ नहीं है क्योंकि लोग बोतलें और सामान पूल में फेंक देते हैं, पानी में मछली की गंध होती है और इससे त्वचा में जलन हो सकती है। सरकार इसे साफ करने के लिए कुछ धनराशि आवंटित कर सकती है, जो लोग आते हैं उन्हें उस स्थान को साफ रखने के लिए निर्देश देने की आवश्यकता है जो
  • स्थानीय सरकार राज्य की वेबसाइटों में इस जगह का विज्ञापन कर सकती है, और अन्य स्थान जो इसे सुर्खियों में लाने में मदद करेंगे। वे इस जगह के आसपास होटल और रेस्त्रां स्थापित करने में भी मदद कर सकते हैं
पाठकों से अपील

यह है कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि बुंदेलखंड में शबरी जल प्रपात और ब्रहस्पति कुंड जैसी बहुत सी खूबसूरत जगहें हैं, जो बहुत सारे लोग हैं इन स्थानों के बारे में जागरूकता की कमी के कारण नहीं जानते हैं। मैंने लोगों को केरल, उत्तर पूर्व और सभी जगहों के बारे में बात करते हुए सुना है, लेकिन बुंदेलखंड में हमारी विरासत के बारे में कोई बात नहीं करता है। हम सभी को जरूरत है कि हम इस तरह की जगहों को लाइमलाइट में लाने की दिशा में काम करें।

कृपया इसे सभी के साथ शेयर करें ताकि वे भी शबरी जल प्रपात से अवगत हो सकें और इस खूबसूरत जगह की यात्रा करने का प्रयास कर सकें। इसके अलावा, मैं सभी को अपील करता हूं कि इस को स्थानीय नेताओं तक पहुंचाएं ताकि वह भी इस जगह को बेहतर बनाने के प्रयास में लग सके। अधिकारी सरकार और  आम जनता  मिलकर चाहे तो कुछ भी कर सकते हैं

कृपया इसे सोशल मीडिया में साझा करें और टिप्पणियों में एक प्रतिक्रिया और सुझाव प्रदान करें, जो मेरा दिन बना देगा।

Read शबरी जल प्रपात in English


शबरी झरने (शबरी जल प्रपात) के पास घूमने की जगह

धाकुंडी आश्रम , कटनी-इलाहाबाद रेल मार्ग में सतना से 70 किलोमीटर दूर धारकुंडी में प्रकृति और अध्यात्म का अनुपम मिलन देखने को मिलता है। सतपुड़ा के पठार की विंध्याचल पर्वत श्रृंखलाओं में स्थित धारकुंडी में प्रकृति की अनुपम छटा देखने को मिलती है।

Default image
Aditya

Web designer, #Blogger #Writter

Articles: 94