बृहस्पति कुंड झरना पन्ना, बुंदेलखंड – भारत का नायग्रा फॉल्स

बृहस्पति कुंड झरना जोकि पन्ना  जिले  (मध्य प्रदेश )में स्थित है। बुंदेलखंड इलाके में स्थित बृहस्पति कुंड को भारत का नायग्रा फॉल्स  भी कहते हैं।  अपनी प्राकृतिक सुंदरता से  सब  को मंत्रमुग्ध  कर देने वाली यह जगह पन्ना से 37 किलोमीटर,  पावन नगरी चित्रकूट से 75 किलोमीटर, बांदा से 85 किमी और विश्व प्रसिद्ध कालिंजर के किले से मात्र 29 किलोमीटर दूर है। मनमोहक सुंदरता वाली इस जगह में जिंदगी मे 1 बार जाना अनिवार्य है।

शबरी जल प्रपात चित्रकूट के निकट बुंदेलखंड में बहुत ही खूबसूरत जगह 

अगर आप ब्रहस्पति कुंड  वाटरफॉल ( झरना)   जाने का मन बना रहे हैं तो यह ब्लॉग आप को जरूर पढ़ना चाहिए,  यहां उस  ब्रहस्पति कुंड   के  सारी जानकारी दूंगा,  यह आपको  बहुत मदद पहुंचाएगी|

बृहस्पति कुंड  के बारे में इंग्लिश में  पढ़ें

बृहस्पति कुंड वाटरफॉल (झरना) की मनमोहक सुंदरता  इसे  धरती में स्वर्ग का दर्जा देता है

 बुंदेलखंड के विख्यात पर्यटक स्थल बृहस्पति कुंड की ऊंचाई 400 फीट के आसपास  है,  400 फीट की ऊंचाई से गिरते हुए पानी की आवाज और उस से निकलता हुआ दुआ आपके दिलो-दिमाग  और यादों में हमेशा के लिए बस जाएगा । पहाड़ी  खेड़ा (पन्ना)  से मात्र 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह जगह परिवार और दोस्तों के साथ आने के लिए बहुत ही सही है।  बृहस्पति कुंड के तल तक पहुंचना किसी साहसिक यात्रा से कम नहीं है क्योंकि  रास्ता बहुत ही संकीर्ण  और पहाड़ी है,  आप किस जगह पर उत्साह और शांति दोनों का अनुभव कर सकते हैं।

बृहस्पति कुंड

ब्रहस्पति कुंड  वाटरफॉल  मैं आप क्या करने जा सकते हैं?

ब्रहस्पति कुंड  वाटरफॉल मैं आप अपने परिवार  वालों और दोस्तों के साथ जाकर  झरने आनंद उठा सकते हैं,  यहां आप कैंपिंग और ट्रैकिंग का भी अनुभव ले सकते हैं। यह जगह परिवार के साथ जाने के लिए बहुत ही अच्छी है यहां की सुंदरता में अपने परिजनों के साथ समय बिताने से मन को बहुत शांति मिलती है।

 कुछ लोग यहां पर आकर खाना भी बनाते हैं और पिकनिक का आनंद उठाते हैं,  यहां पर आप घर से खाना बना कर ला सकते हैं और अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ बैठकर जन्म के नजदीक खा सकते हैं।  यहां पर खाना खाने का अनुभव बहुत ही सुकून देने वाला है,  यह अनुभव आपको जिंदगी भर नहीं भूलेगा

बृहस्पति कुंड  के बारे में इंग्लिश में  पढ़ें

Brashpati-Kund-waterfall

बृहस्पति कुंड झरने का जल स्रोत बाघिन नदी है, जिसका उद्गम स्थल  पन्ना की पहाड़ियों में है ।  यह झरना इतना बड़ा है कि  पानी के गिरने की आवाज बहुत दूर से सुनाई देती है और आप काफी दूरी से इसको देख सकते हैं। बृहस्पति कुंड को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं और यहां की छवि अपने मन में हमेशा के लिए बसाकर   जाते हैं

ब्रहस्पति कुंड  वाटरफॉल,  पन्ना का इतिहास

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवगुरु बृहस्पति (वैदिक युग के ऋषि जो देवताओं का त्याग करते हैं) ने यहां एक आश्रम बनाया और यज्ञ (यज्ञ) किया।

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान राम ने अपने 14 वर्ष के वनवास के दौरान भी इस स्थान का दौरा किया था।

You can also read 15 most beautiful places to visit in Khajuraho

ब्रहस्पति कुंड झरना की  तस्वीरें

ब्रहस्पति कुंड  वाटरफॉल किस लिए प्रसिद्ध है ?

यह अपने अद्वितीय प्राकृतिक परिदृश्य और अद्भुत झरने के लिए प्रसिद्ध है  जो मुझे लगता है कि असाधारण प्राकृतिक सुंदरता है। यह क्षेत्र हरियाली और हीरे  जैसे  कई प्राकृतिक संसाधनों से भरा है (पन्ना घाटी अपने हीरे की प्रचुरता और खनन के लिए प्रसिद्ध है)।

पौराणिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक संदर्भ इस जगह पर पाए जा सकते हैं। हमें यहाँ के आसपास प्राचीन रॉक पेंटिंग के प्रमाण यहां मिले हैं जो  जानवरों के शिकार और आदिवासी सभा जैसी मानवीय गतिविधियों को दर्शाता है। यह पूर्व-ऐतिहासिक समय के दौरान जनजातियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले शिकार के उपकरण के रूप में धनुष और तीर के उपयोग को भी दर्शाता है

बृहस्पति कुंड  के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

Brihaspati-kund-trip

ब्रहस्पति कुंड झरना की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा है ?

ज्यादातर लोग बरसात के मौसम के दौरान ब्रहस्पति कुंड झरने पर जाते हैं (जुलाई से सितंबर)। इस दौरान यह जानना अपनी सुंदरता की चरम सीमा पर होता है  क्योंकि पानी का बहाव बहुत तेज होता है और देखने में बहुत आकर्षक लगता है।  स्थानीय लोगों के अनुसार यह झरना 8 महीने तक खुला रहता है और लोग यहां पर दिसंबर के महीने तक आते हैं।

Brihaspati Kund

ब्रहस्पति कुंड वाटरफॉल कैसे तक पहुँचें। 

निकटतम हवाई अड्डा

लखनऊ और इलाहाबाद निकटतम हवाई अड्डे हैं , ब्रहस्पति कुंड झरने के लिए। लखनऊ हवाई अड्डा पूरे भारत से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और अगर आप अन्य राज्यों से इस स्थान की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो यह एक उपयुक्त विकल्प होगा। आप हवाई अड्डे से कार  बुक कर सकते हैं और सीधा ब्रहस्पति कुंड वाटरफॉल  पहुंच सकते हैं। ब्रहस्पति कुंड लखनऊ केसे 265 किमी और इलाहाबाद (प्रयागराज) से 207 किमी दूर।

बृहस्पति कुंड से निकटतम रेलवे स्टेशन

बांदा, अतर्रा, और कारवी (चित्रकूट) निकटतम रेलवे स्टेशन हैं। बांदा से ब्रहस्पति कुंड की दूरी नरैनी और कलिंजर से 85 किलोमीटर है। अतर्रा से यात्रा की दूरी 64 किमी और कार्वी (चित्रकूट) 75 किमी है। वहां पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका कार या बाइक है। आप अपनी खुद की कार का उपयोग कर सकते हैं या एक किराए पर ले सकते हैं, आपके पास एक सड़क यात्रा होगी जो आपके पूरे जीवन में आपके साथ रहेगी।

खजुराहो से ब्रहस्पति कुंड की दूरी 81 किमी खजुराहो से ब्रहस्पति कुंड तक पहुँचने का सबसे आसान तरीका निजी या किराए पर कार द्वारा है, इसमें लगभग 2 घंटे लगेंगे बृहस्पति कुंड  की सतना  से  दूरी 68 किमी है, आपकी जगह से सबसे आसान रास्ता खोजने के लिए  आप गूगल मैप   का उपयोग कर सकते हैं, मैंने आपकी सुविधा के लिए एक वर्णनात्मक नक्शा बनाया है|

बृहस्पति कुंड  के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

बृहस्पति कुंड की यात्रा करने से पहले  जानने वाली कुछ बातें

  • आपको अपने साथ भोजन और पानी लाने की, क्योंकि आपको आस-पास ऐसी कोई जगह नहीं मिलेगी जहाँ आपको भोजन मिल सके, वहाँ 3 में कुछ जगह (ढाबा) हैं -4 किमी की दूरी। आप खाना पकाने के बर्तन भी ला सकते हैं अगर वहाँ खाना पकाने की योजना बनाई जाए, तो यह मज़ेदार हो सकता है
  • आरामदायक जूते पहनें जिनकी अच्छी पकड़ हो क्योंकि आपको झरने के नीचे तक ट्रैक करना होगा और मार्ग चट्टानी है और बारिश के कारण थोड़ा फिसलन है, पहने हुए सैंडल / चप्पल की सिफारिश नहीं की जाती है।
  • नीचे और किनारों पर ट्रैकिंग करते समय वीडियो और फोटो लेते समय सावधान रहें, क्योंकि मैंने बहुत से लोगों को ऐसा करते देखा है जो बहुत जोखिम भरा है, कुछ अच्छे क्लिक के लिए अपने जीवन को जोखिम में न डालें।
  • आरामदायक पोशाक पहनें जिससे ट्रैक करना आसान हो और शॉर्ट्स लाएं यदि आप झरने के नीचे स्नान का आनंद लेना चाहते हैं तो

बृहस्पति कुंड की यात्रा के बाद मेरा अनुभव

  मुझे अपने दोस्तों के साथ  यहां जाने का अवसर प्राप्त हुआ,  वहां जाकर मुझको लगा कि मैं दुनिया की सबसे खूबसूरत जगह पर आ गया हूं|  ऊंचाई से गिरता हुआ पानी जब चट्टानों में   गिरता है,   उससे निकलने वाली धुन और पानी की चट्टानों से टकराने वाली आवाज आप को सम्मोहित कर  देगी|

 हम लोगों ने पहले ट्रैकिंग का आनंद उठाया उसके बाद हम लोगों ने झरने के नीचे स्नान किया|  हम लोगों ने पानी के अंदर बैठकर लुफ्त उठाते रहे|  उसके बाद हम सब दोस्तों ने मिलकर वहां पर बैठकर खाना खाया| हम लोग खाना घर से ही लेकर गए थे|  उस जगह की खासियत है  कि अगर आप एक बार यहां आए तू यह जगह आपके दिमाग में हमेशा के लिए  बस जाएगीहम सब दोस्त वही पर काफी देर तक बैठे रहे फोटोस निकालते रहे, वीडियोस निकालते रहे,  और बृहस्पति कुंड  की प्राकृतिक   सौंदर्य  का आनंद का अनुभव खाते रहे|

मैं सब लोगों को यहां पर एक बार जरूर  जाने की सलाह दूंगा|  हमारे बुंदेलखंड में बहुत सारी खूबसूरत जगह हैं उनके बारे में लोग नहीं जानते,  कृपया यह ब्लॉक सबके साथ शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस जगह के बारे में जाने यहां पर आकर  प्राकृतिक सौंदर्य का लुत्फ उठा पाए

बृहस्पति कुंड  के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

बृहस्पति कुंड की प्राकृतिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि

बृहस्पति कुंड के आसपास का यह क्षेत्र विन्ध्य पर्वत श्रृंखला का हिस्सा है जो गुजरात से शुरू होकर उत्तर प्रदेश  तक जाती है। बृहस्पति कुंड में जलप्रपात स्रोत बाघिन नदी है, जिसका उद्गम पन्ना की पहाड़ियों में होता है, जो उत्तर प्रदेश में बांदा जिले में प्रवेश करती है, और इससे पहले कुछ दूरी तक पैसुनी (चित्रकूट में मंदाकिनी के नाम से भी जानी जाती है) के साथ चलती है। यमुना नदी, यह बांदा जिले को चित्रकूट से अलग करती है।

बृहस्पति कुंड जो 1962 में श्री केएफ जडिया द्वारा खोजा गया था, बाघिन नदी के पाठ्यक्रम में 7 कुंडों में से एक है, अन्य 6 सूरज कुंड, गुफ़ा कुंड, शुखा कुंड, हटिया कुंड, वेधा कुंड और पातालिया कुंड हैं।

बृहस्पति कुंड  के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

भारतीय रॉक पेंटिंग के संदर्भ में बृहस्पति कुंड में मिले सबूत

जब मैंने उस स्थान का दौरा किया, तो मुझे झरने की दाहिनी ओर रॉक शेल्टर की छत पर और पास के एक पुराने मंदिर की दीवारों पर कई प्राचीन रॉक पेंटिंग मिली, ये पेंटिंग कृषि, शिकार, जानवरों के बारे में थीं, और आदिवासी सभ्यता के संदर्भ में सबूत  मिले हैं।

आप धनुष और तीर के स्पष्ट सबूत देख सकते हैं जो कि उन जनजातियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले शिकार उपकरणों के रूप में इस्तेमाल किए जाते थे जो वहां रहते थे। ये दीवार पेंटिंग हमारी विरासत हैं क्योंकि इस तरह की पेंटिंग हमारे देश में चारों ओर पाई गई हैं और स्पष्ट रूप से पता चलता है कि हमने ठीक से नहीं किया है।

निष्कर्ष

बुंदेलखंड इस तरह की खूबसूरत जगहों से  भरा हुआ है, लेकिन यह लोगों के बीच लोकप्रिय नहीं है|  ज्यादातर क्योंकि स्थानीय सरकार बाहर से पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए इन स्थानों को विकसित करने के लिए पर्याप्त ध्यान और प्रयास नहीं कर रही है। उन लोगों के लिए धन्यवाद, जिन्होंने इन स्थानों का पता लगाने के लिए प्रयास किए और विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर चित्र और वीडियो डाले, जो वायरल हो गए थे और अब अधिक से अधिक लोग इन स्थानों का दौरा कर रहे हैं।

मैं स्थानीय सरकार से अनुरोध करता हूं कि वह इसे एक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने और विकसित करने में मदद करे जो बुंदेलखंड के लिए बहुत अच्छा होगा और स्थानीय आबादी के लिए रोजगार के कुछ प्रकार के अवसर पैदा करेगा।आए

यदि आपको यह पोस्ट पसंद तो कृपया अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव टिप्पणियों में दें। इसे सोशल मीडिया में भी साझा करें

You can also read 15 most beautiful places to visit in Khajuraho

बृहस्पति कुंड  के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें

Default image
Aditya

Web designer, #Blogger #Writter

Articles: 91