बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बदल देगा बुंदेलखंड (उत्तर प्रदेश) की तस्वीर - Bundelkhand Explorer

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बदल देगा बुंदेलखंड (उत्तर प्रदेश) की तस्वीर

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में 296 किमी लंबा, 4-लेन चौड़ा (6 तक विस्तार योग्य) एक्सेस-नियंत्रित एक्सप्रेसवे है। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, बुंदेलखंड क्षेत्र को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे और यमुना एक्सप्रेस-वे के माध्यम से जोड़ेगा और साथ ही बुंदेलखंड क्षेत्र के विकास में अहम भूमिका निभाएगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बुंदेलखंड क्षेत्र, चित्रकूट और झांसी के तहत रक्षा औद्योगिक गलियारे के 2 नोड्स को जोड़ेगा

यह चित्रकूट जिले में एनएच-35 पर गोंडा गांव को इटावा जिले में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर कुदरैल गांव से जोड़ेगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे उत्तर प्रदेश के 6 अविकसित राज्य से होकर गुजरेगा और वे चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा हैं| प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 फरवरी 2020 को बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की आधारशिला रखी।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के बारे में विस्तृत जानकारी

यह परियोजना अप्रैल 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरू की गई थी। इसे उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) द्वारा विकसित किया जा रहा है, जिसकी कुल परियोजना मूल्य ₹14,716 करोड़ (भूमि अधिग्रहण लागत सहित) है।

पूर्व प्रधान मंत्री को श्रद्धांजलि में, अटल बिहारी वाजपेयी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृति में प्रस्तावित बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को “अटल पथ” के रूप में नामित करने का निर्णय लिया है। एक्सप्रेस-वे पूर्व पीएम के पैतृक गांव बटेश्वर, आगरा से होकर गुजरेगा।

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का नक्शा

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का नक्शा
Source: UPEIDA
  • बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना के पैकेज एवं ठेकेदार का विवरण

    क्र.सं.पैकेज का नामपैकेज की लंबाई (कि.मी.)ठेकेदारअनुबंधित लागत (करोड़ रुपये में)
    1 गोंडा (चित्रकूट)-महोखर (बांदा)50.5एप्को इंफ्राटेक1268.60
    2महोखर (बांदा)-कौहारी (महोबा)50.3एप्को इंफ्राटेक1245.63
    3कौहारी (महोबा)-बरोली खरका (हमीरपुर)49अशोक बिल्डकॉन1079.52
    4बरोली खरका (हमीरपुर)-सलाबाद (जालौन)51गावर कंस्ट्रक्शन
    1396.00
    5सलाबाद (जालौन)-बखरिया (औरैया)50गावर कंस्ट्रक्शन
    1415.00
    6बखरिया (औरैया)-कुदरैल (इटावा)45.3दिलीप बिल्डकॉन1362.06
    Total296.0707766.81
    Information refrence: Wikipedia

    बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना से लाभ

    • एक्सप्रेस-वे के निर्माण से बुंदेलखंड क्षेत्र को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे और यमुना एक्सप्रेस-वे के जरिए तेज और सुगम यातायात कॉरिडोर से जोड़ा जाएगा।
    • बुंदेलखंड क्षेत्र के ओमनी-दिशात्मक विकास की राह को मजबूत किया जाएगा। एक्सप्रेसवे के नियंत्रित होने से ईंधन की खपत में महत्वपूर्ण बचत और प्रदूषण पर नियंत्रण भी संभव होगा।
    • परियोजना के अंतर्गत आने वाला क्षेत्र आर्थिक और सामाजिक रूप से विकसित होगा साथ ही कृषि, वाणिज्य, पर्यटन और औद्योगिक आय में भी वृद्धि का अनुभव होगा।
    • विभिन्न निर्माण इकाइयों, विकास केंद्रों और कृषि उत्पादक क्षेत्रों को राष्ट्रीय राजधानी से जोड़ने के लिए, एक्सप्रेसवे के अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों में स्थापित, एक औद्योगिक गलियारा विकसित किया जाएगा जो क्षेत्र के ओमनी दिशात्मक विकास में सहायता करेगा।
    • एक्सप्रेस-वे के समीप औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान एवं चिकित्सा संस्थान आदि की स्थापना के भी अवसर प्राप्त होंगे।
    • एक्सप्रेसवे हथकरघा उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों, भंडारण, बाजार और दूध आधारित उद्योगों की स्थापना के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की टाइमलाइन – बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे अपडेट

    • अप्रैल 2017: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बनाने की योजना की घोषणा की। 
    • अगस्त 2017: आगामी बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को बटेश्वर के रास्ते आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से जोड़ने की योजना की घोषणा की गई।
    • नवंबर 2017: मार्ग सर्वेक्षण से संबंधित कार्य शुरू किया गया है, जिसके बाद विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जाएगी।
    • जून 2018: धन की कमी के कारण, यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बनाने का अनुरोध किया।
    • नवंबर 2018: यूपी सरकार ने भूमि अधिग्रहण के लिए ₹640 करोड़ जारी किए।
    • दिसंबर 2018: भूमि अधिग्रहण शुरू हुआ। भूमि अधिग्रहण को 2 महीने में पूरा करने की योजना है। आवश्यक भूमि के ८०% अधिग्रहण के बाद निर्माण कार्य शुरू होगा।
    • फरवरी 2019: विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की गई, आवश्यक भूमि का 27% अधिग्रहण कर लिया गया है। 
    • मई 2019: आवश्यक भूमि का 60% अधिग्रहण कर लिया गया है। लोकसभा आदर्श आचार संहिता के बाद शुरू होगी बोली प्रक्रिया
    • जून 2019: आवश्यक भूमि का 79% अधिग्रहण कर लिया गया है। जुलाई 2019: बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के लिए ₹1,150 करोड़ का बजट बूस्टर।
    • अगस्त 2019: आवश्यक भूमि का 90% अधिग्रहण कर लिया गया है। निर्माण कार्य अक्टूबर 2019 में शुरू होगा।
    • Oct 2019: एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य को 6 पैकेज में बांटा गया है। यूपी सरकार ने एक्सप्रेसवे के विकास के लिए 4 निजी फर्मों को शॉर्टलिस्ट किया।
    • जनवरी 2020 : सभी 6 पैकेजों का निर्माण कार्य ठेकेदारों द्वारा शुरू किया गया। महोबा जिले में निर्माण कार्य की गति धीमी.
    • फरवरी 2020: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 फरवरी 2020 को एक्सप्रेसवे की नींव रखी। 15% भूमि का अधिग्रहण किया गया है, 2% मिट्टी का काम पूरा हुआ है। 
    • अप्रैल 2020: कोविड -19 के कारण रुका हुआ सड़क निर्माण कार्य, 6 पैकेजों में से 3 पैकेज में फिर से शुरू हुआ।
    • जून 2020: एक्सप्रेसवे 7 जिलों के 182 गांवों से होकर गुजरेगा। 15 जून तक 3,654 हेक्टेयर में से 3,483 (95.32%)आवश्यक भूमि का अधिग्रहण कर लिया गया है। 
    • अगस्त 2020 : 22अगस्त को, 14% निर्माण कार्य निर्धारित समय से पहले पूरा हो गया। 
    • मई 2021: 90 फीसदी मिट्टी का काम और 60 फीसदी निर्माण कार्य पूरा हुआ। 31 मई तक कुल 818 संरचनाओं में से 581 पूर्ण हो चुकी हैं। 
    • अगस्त 2021: 31 अगस्त तक 71% निर्माण कार्य और कुल 880 संरचनाओं में से 704 पूर्ण हुए

    Also read : बुंदेलखंड के प्रमुख लोक चित्र

    बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का प्रारंभिक बिंदु

    जिला चित्रकूट में झांसी-प्रयागराज राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-35 में भरतकूप के पास।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का अंतिम पड़ाव

    आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर जिला इटावा में कुदरैल गांव के पास।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की लंबाई क्या है

    कुल 296.070 किमी

    बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे परियोजना से कौन से जिले लाभान्वित हुए हैं?

    चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की वर्तमान स्थिति

    बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के निर्माण की 31.08.2021 तक प्रगति 71 प्रतिशत है।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर गिरने वाली प्रमुख नदियां

    बागान, केन, श्यामा, चंदावल, बिरमा, यमुना, बेतवा और सेंगर।

    बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर क्या हैं प्रस्तावित संरचनाएं

    एक्सप्रेस-वे पर कुल 04 रेलवे ओवर ब्रिज, 14 बड़े ब्रिज, 06 टोल प्लाजा, 07 रैम्प प्लाजा, 266 छोटे ब्रिज और 18 फ्लाई ओवर भी बनाए जाएंगे.

    Default image
    Aditya

    Web designer, #Blogger #Writter

    Articles: 94